मन के बाग़ में बिखरी है भावनाओं की ओस। …………कुछ बूंदें छूकर मैंने भी नम कर ली हैं हथेलियाँ …………और लोग मुझे कवि समझने लगे!

अनकहा

सदियों से
तलाश रहा हूँ मैं
एक ऐसा श्रोता
जो सुन सके
मेरी कविताओं का वह अंश
जो मैंने कहा ही नहीं

क्योंकि
'बहुत कुछ'
कह देने की संतुष्टि से
कहीं बड़ी है
बेचैनी
'कुछ'
न कह पाने की!

5 comments:

kanchan said...

ham sabki talash ek si hi hai

Avani Jain said...
This comment has been removed by the author.
Avani Jain said...

bahut khoob kaha aapne...bas do shabd iske liye-
ham kuch kah na sake,wo kuch samjha na sake,kaash un unkahi baaton ko kah paate,phir shayad is duniya ke log hame samajh paate.

IshwarKaur said...

kavitaao ki un becheeni ko samajh paane vala shrota ki kami hai jo us kavita ki gahari tak jaakar voh dekh paaye jo vaha hai hi nahi

Anonymous said...

xanax xanax dosage for recreational use - xanax buy online mastercard

Text selection Lock by Hindi Blog Tips
विजेट आपके ब्लॉग पर