मन के बाग़ में बिखरी है भावनाओं की ओस। …………कुछ बूंदें छूकर मैंने भी नम कर ली हैं हथेलियाँ …………और लोग मुझे कवि समझने लगे!

hasya kavi

 For Booking of a Kavi Sammelan Just visit- www.kavisammelanhasya.com
or contact
+91 9868573612
+91 9999428213

No comments:

Text selection Lock by Hindi Blog Tips
विजेट आपके ब्लॉग पर