मन के बाग़ में बिखरी है भावनाओं की ओस। …………कुछ बूंदें छूकर मैंने भी नम कर ली हैं हथेलियाँ …………और लोग मुझे कवि समझने लगे!

Chirag Jain Laughter


No comments:

Text selection Lock by Hindi Blog Tips
विजेट आपके ब्लॉग पर